चित्तौड़गढ़ - धार्मिक आस्था वाले तालाब में हजारों मछलियों के जीवन पर संकट, पानी सूखने से नोचने लगे दूसरे जीव
हर खबर की विश्वसनीयता का आधार " सीधा सवाल ", 10 हजार से अधिक डाउनलोड के लिए सभी का आभार। सूचना, समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे - 9602275899, 9413256933

चितौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - बैठक के बाद थमा रास्ते का विवाद, वंडर सीमेंट प्रबंधन ने ग्रामीणों पर डाली जिम्मेदारी

  • बड़ी खबर

चित्तौड़गढ़ / निम्बाहेड़ा - धिनवा में हुई भीषण दुर्घटना में एक युवक की मौत, दो गंभीर घायल, किया रेफर

  • बड़ी खबर

चितौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - वंडर सीमेंट के संपर्क मार्ग को बंद करने की तैयारी, ग्रामीणों का आक्रोश

  • बड़ी खबर

चित्तौड़गढ़ - राजनीति का अखाड़ा बनी चित्तौड़ डेयरी में खींचतान, बोर्ड बैठक का बहिष्कार

  • बड़ी खबर
प्रमुख खबरे
* चितौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - बैठक के बाद थमा रास्ते का विवाद, वंडर सीमेंट प्रबंधन ने ग्रामीणों पर डाली जिम्मेदारी * चित्तौड़गढ़ / निम्बाहेड़ा - धिनवा में हुई भीषण दुर्घटना में एक युवक की मौत, दो गंभीर घायल, किया रेफर * चितौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - वंडर सीमेंट के संपर्क मार्ग को बंद करने की तैयारी, ग्रामीणों का आक्रोश * चित्तौड़गढ़ - राजनीति का अखाड़ा बनी चित्तौड़ डेयरी में खींचतान, बोर्ड बैठक का बहिष्कार * चित्तौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - चारागाह भूमि का गलत आवंटन, कार्यवाही का इंतजार... तत्कालीन उपखंड अधिकारी, तहसीलदार सहित अन्य लोग दोषी, उच्च न्यायालय के आदेश पर बनी कमेटी की रिपोर्ट * प्रतापगढ़ / छोटीसादड़ी - तीन लाख की लूट का मामला, जावद पुलिस ने छोटीसादड़ी के दो आरोपी को गिरफ्तार, लूट की रकम और बाइक जब्त * चित्तौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - ट्रेन की चपेट में आने से दो महिलाओं सहित तीन की मौत, देवरे पर धोक देकर आ रहे थे * सुपर फास्ट ट्रेन की चपेट में आने से दो महिलाओं सहित तीन की मौत * चित्तौड़गढ़ - अभय कंडारा की मौत का मामला, पांच महिलाओं सहित नो गिरफ्तार * चित्तौड़गढ़ - निंबाहेड़ा के लक्ष्मीपुरा से नारकोटिक्स नीमच ने पकड़ा लाखों का डोडा चूरा * प्रतापगढ़ / छोटीसादड़ी - नाले की भूमि पर अवैध निर्माण का मामला, संभागीय आयुक्त को हुई शिकायत * चित्तौड़गढ़ / निम्बाहेड़ा - एमपी के उज्जैन पुलिस की कार्रवाई सटोरिया से 15 करोड रुपए कैश जप्त , निंबाहेड़ा का एक आरोपी भी गिरफ्तार * चित्तौड़गढ़ - लापरवाही.... जिंदगी की रेस में फेल, लेकिन लाइसेंस बनाने में 'सिस्टम' का दुरुपयोग, 95 प्रतिशत हो रहे पास * चित्तौड़गढ़ / बड़ीसादड़ी - तालाब में मिट्टी का अवैध खनन, नगर पालिका ने नहीं दिया ठेका, उपखंड अधिकारी ने शुरू की जांच * चित्तौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - साहब जी झूठ तो मत बोलो ! तहसील कार्यालय से लोगों को मिल रही गलत सूचना
हर खबर की विश्वसनीयता का आधार " सीधा सवाल ", 10 हजार से अधिक डाउनलोड के लिए सभी का आभार। सूचना, समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे - 9602275899, 9413256933
प्रमुख खबरे
* चितौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - बैठक के बाद थमा रास्ते का विवाद, वंडर सीमेंट प्रबंधन ने ग्रामीणों पर डाली जिम्मेदारी * चित्तौड़गढ़ / निम्बाहेड़ा - धिनवा में हुई भीषण दुर्घटना में एक युवक की मौत, दो गंभीर घायल, किया रेफर * चितौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - वंडर सीमेंट के संपर्क मार्ग को बंद करने की तैयारी, ग्रामीणों का आक्रोश * चित्तौड़गढ़ - राजनीति का अखाड़ा बनी चित्तौड़ डेयरी में खींचतान, बोर्ड बैठक का बहिष्कार * चित्तौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - चारागाह भूमि का गलत आवंटन, कार्यवाही का इंतजार... तत्कालीन उपखंड अधिकारी, तहसीलदार सहित अन्य लोग दोषी, उच्च न्यायालय के आदेश पर बनी कमेटी की रिपोर्ट * प्रतापगढ़ / छोटीसादड़ी - तीन लाख की लूट का मामला, जावद पुलिस ने छोटीसादड़ी के दो आरोपी को गिरफ्तार, लूट की रकम और बाइक जब्त * चित्तौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - ट्रेन की चपेट में आने से दो महिलाओं सहित तीन की मौत, देवरे पर धोक देकर आ रहे थे * सुपर फास्ट ट्रेन की चपेट में आने से दो महिलाओं सहित तीन की मौत * चित्तौड़गढ़ - अभय कंडारा की मौत का मामला, पांच महिलाओं सहित नो गिरफ्तार * चित्तौड़गढ़ - निंबाहेड़ा के लक्ष्मीपुरा से नारकोटिक्स नीमच ने पकड़ा लाखों का डोडा चूरा * प्रतापगढ़ / छोटीसादड़ी - नाले की भूमि पर अवैध निर्माण का मामला, संभागीय आयुक्त को हुई शिकायत * चित्तौड़गढ़ / निम्बाहेड़ा - एमपी के उज्जैन पुलिस की कार्रवाई सटोरिया से 15 करोड रुपए कैश जप्त , निंबाहेड़ा का एक आरोपी भी गिरफ्तार * चित्तौड़गढ़ - लापरवाही.... जिंदगी की रेस में फेल, लेकिन लाइसेंस बनाने में 'सिस्टम' का दुरुपयोग, 95 प्रतिशत हो रहे पास * चित्तौड़गढ़ / बड़ीसादड़ी - तालाब में मिट्टी का अवैध खनन, नगर पालिका ने नहीं दिया ठेका, उपखंड अधिकारी ने शुरू की जांच * चित्तौड़गढ़ / निंबाहेड़ा - साहब जी झूठ तो मत बोलो ! तहसील कार्यालय से लोगों को मिल रही गलत सूचना

एक बीघा क्षेत्र में भी नहीं भरा पानी, कीचड़ से भरे पानी में रह रही हजारों मछलियां

अखिल तिवारी

सीधा सवाल। चित्तौड़गढ़। तेज गर्मी और उमस से हर कोई आहत है। जलाशयों में भी पानी पूरी तरह सूखने की कगार पर है। ऐसे में जलीय जीवों पर संकट खड़ा हो गया है। घोसुंडा स्थित धार्मिक आस्था वाले इस तालाब में भी हजारों मछलियों का जीवन संकट में है। करीब एक बीघा क्षेत्र में ही कीचड़ युक्त पानी में हजारों मछलिया हैं। ऐसे में गर्मी से ही मछलियों की मौत हो रही है तो वहीं दूसरे जीव भी आसानी से मछलियों को नोचने लगे हैं। इससे तालाब में कभी भी पानी के साथ ही मछलियां ऐसे ही खत्म हो जाएगी। समय रहते ग्राम पंचायत या जिला प्रशासन कौन निर्णय नहीं करता है तो मछलियों का जीवन संकट में है। यहां मछलियां भी सामान्य से बड़े आकार की है। क्षेत्र के लोग भी चाहते हैं कि मछलियों को अन्यंत्र शिफ्ट किया जाए, जिससे इनका जीवन बच सके।

जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर दूर घोसुंडा गांव स्थित है। यहां गांव की शुरुवात में ही प्राचीन तालाब है। इस वर्ष मानसून की औसत से भी कम बरसात के कारण तालाब में पानी की आवक बहुत ही कम हुई थी। वहीं इस तालाब में लंबे समय से मछलियां हैं, जिनका वजन 10 से 15 किलो तक है। कम बरसात के कारण मई माह में ही पानी सूखने के कगार पर आ गया है। इसमें करीब एक बीघा क्षेत्र में ही छिछला पानी रह गया है। पानी सूखने से मछलियां भी मरने लगी है। शीघ्र ही इन मछलियों को दूसरी जगह शिफ्ट नहीं किया जाता है तो उनके जीवन पर संकट है। ग्राम पंचायत प्रशासन की उदासीनता के चलते इन मछलियों को शिफ्ट करने का कार्य नहीं हो पा रहा है। वहीं जिला प्रशासन तक यह बात नहीं पहुंच पा रही है। तालाब के पानी में सतह पर मछलियों को तैरते हुए आसानी से देखा जा सकता है। धार्मिक आस्था का तालाब होने के कारण यहां पहले शिकार पर रोक थी। ऐसे में मछलियों का आकार भी काफी बड़ा हो गया है।

धूप से भी मरने लगी है मछलियां जानकारी में सामने आया कि तालाब में मछलियों को आसानी से देखा जा सकता है। कम मात्रा में पानी होने के कारण तेज गर्मी के चलते पानी काफी गर्म हो जाता है। ऐसे में मछलियों की त्वचा जलने की शिकायत से इनकार नहीं किया जा सकता। तेज गर्मी के कारण भी मछलियां मरने लगी है लेकिन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

दूसरे जीव भी भटकते हैं तालाब के पास
एक तरफ जहां पानी खत्म होने के कारण मछलियों के जीवन पर संकट है तो दूसरी तरफ दूसरे जीवों को भी तालाब के पानी में मुंह मारते देखा जा सकता है। श्वान एवं सूअर दोनों ही तालाब के किनारे मंडराते रहते हैं। वहीं रात को अन्य वन्य जीवों के भी तालाब पर आने की संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता। इन कारणों से तालाब में मछलियों की संख्या कम होती जा रही है।

अब लोगों के शिकार से भी इंकार नहीं
जानकारी में सामने आया कि धार्मिक आस्था से जुड़ा तालाब होने के कारण यहां पर शिकार पर रोक है। पूर्व में भी शिकार के मामले सामने आए थे लेकिन लोगों ने विरोध कर दिया था और पुलिस भी मौके पर पहुंची थी। लेकिन अब जब तालाब में नाम मात्र का पानी रह गया है तथा बिना जाल डाले भी मछलियों का शिकार हो सकता है। इस समय यहां लोगों के द्वारा मछलियों के शिकार से इंकार नहीं किया जा सकता।

प्रयास जारी, लेकिन पर्याप्त नहीं
यहां तालाब में मछलियों को बचाने का प्रयास जारी है लेकिन वह ऊंट के मुंह में जीरा साबित हो रहा है। हाल ही में एक पाइप से तालाब में पानी छोड़ने का कार्य फिर से शुरू किया गया है। लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। जितना पानी तालाब में आता है उससे ज्यादा गर्मी मके कारण हवा में उड़ जाता है।


What's your reaction?